गर्मी के मौसम में इस फल के रस से कंट्रोल कर सकते हैं डायबिटीज़

Picture credit : webfeed360.com

Picture credit : webfeed360.com

गर्मी के मौसम में कई तरह के फलों की बहार लग जाती है लेकिन इस दौरान एक ऐसा भी फल है जिसके फायदे तो अनेक हैं लेकिन फिर भी लोग इसे नज़रअंदाज़ कर देते हैं। आपने बचपन में इस फल के बारे में जरूर सुना और देखा होगा। गर्मी के मौसम में पेड़ों और फलों की गाडियों पर इस फल का ढेर लगा रहता है लेकिन फिर भी बहुत कम लोग ऐसे हैं जो इसका इस्‍तेमाल करते हैं।

आज हम आपको जिस फल के बारे में बताने जा रहे हैं वो ना केवल सेहत के लिए फायदेमंद होता है बल्कि डायबिटीज़ के मरीज़ों को भी फायदा पहुंचाता है।

ये है वो फल

सेहत को चमत्‍कारिक फायदे देने वाला वो फल कोई और नहीं बल्कि बेल है। ये फल फलों की दुकान, जूस वालों और सड़क किनारे बिकते हुए देखा जा सकता है। गर्मी के मौसम में शरीर को ठंडक देने वाला ये फल मधुमेह रोगियों के लिए भी फायदेमंद होता है।

बेल में पोषक तत्‍व होते हैं भरपूर

बेल में विटामिंस, कैल्शियम, फास्‍फोरस, फाइबर, प्रोटीन और आयरन प्रचुर मात्रा में होता है। इसके साथ ही ये फल पाचन में मददगार होता है। ये आंतों को साफ करता है और डायरिया, कब्‍ज और अपच जैसी समस्‍याओं से मुक्‍ति दिलाता है।

Picture credit : cs.wikipedia.org

Picture credit : cs.wikipedia.org

रक्‍त को करता है साफ

बेल का रस शरीर से विषाक्‍त पदार्थों को साफ करता है जिससे रक्‍त भी साफ रहता है। ये बैक्‍टीरिया और वायरल इंफेक्‍शन से भी बचाता है।

डाय‍बिटीज़ से बचाए

बेल के रस का सबसे बेहतरीन फायदा यही है कि बेल मधुमेह से भी बचाता है। आजकल ज्‍यादातर लोग अपने खराब लाइफस्‍टाइल के चक्‍कर में मधुमेह का शिकार हो रहे हैं। सभी जानते हैं कि अगर एक बार मधुमेह की बीमारी हो जाए तो इससे पीछा छुड़ाना कितना मुश्किल हो जाता है और इसके साथ जीना भी कोई आसान बात नहीं है। ऐसे में अगर आप पहले से ही इससे बचने की तैयारी कर लेंगें तो आपसे ज्‍यादा खुशकिस्‍मत तो और कोई हो ही नहीं सकता है।

बेल का रस शरीर में शुगर की मात्रा को नियंत्रित करने में मदद करता है। ये ग्‍लूकोज़ और इंसुलिन के स्‍तर में संतुलन बनाता है जिससे मधुमेह की बीमारी को कंट्रोल करने में मदद मिलती है। अगर आपको डायबिटीज़ है तो आप अपने डॉक्‍टर से सलाह लेकर गर्मी के मौसम में बेल का रस जरूर पी सकते हैं। बेल का रस श्‍वसन तंत्र को भी साफ करता है।

बेल, बेल की पत्तियों और बेल पत्र में कई औषधीय गुण मौजूद होते हैा जोकि मधुमेह को कंट्रोल करने में मददगार साबित होते हैं। बेल के रस के साथ-साथ इसकी पत्तियों से भी डायबिटीज़ को कंट्रोल किया जा सकता है। आयुर्वेदिक दुकानों पर बेल की पत्तियां आपको आसानी से मिल जाएंगीं। ये दशमूला यानि 10 जड़ी बूटियों में से प्रमुख है।

बेल की पत्तियां मधुमेह में कैसे करती हैं काम

वैज्ञानिक तौर पर ये साबित हो चुका है कि बेल की पत्तियों में एंटी डायबिटीक यौगिक मौजूद होते हैं। बेल की पत्तियों से ब्‍लड शुगर और कोलेस्‍ट्रॉल के लेवल को कम किया जा सकता है। इसकी पत्तियों के एक्‍सट्रैक्‍ट में हाइपोग्‍लाइसेमिक और एंटीऑक्‍सीडेंट यौगिक भी होते हैं। लो ग्‍लाइसेमिक इंडेक्‍स वाले फू्ड्स और जड़ी बूटियां डायबिटीज़ के ईलाज में कारगर मानी जाती हैं। इसकी पत्तियां अग्‍नाश्‍य को ताकत देती हैं जिससे इंसुलिन का उत्‍पादन बढ़ता है जोकि ब्‍लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने में मदद करता है।

मधुमेह में बेल पत्तियों का कैसे करें प्रयोग

Picture credit L food.ndtv.com

Picture credit L food.ndtv.com

रोज़ सुबह उठकर खाली पेट 4-5 बेल पत्तियां चबाएं। लंबे समय तक ऐसा करने से मधुमेह की बीमारी को कंट्रोल किया जा सकता है। बेल की पत्तियों को ब्‍लेंडर में पानी के साथ मिलाकर इसका रस निकाल लें। एक चुटकी मिर्च डालकर इस रस का सेवन करने से मधुमेह रोगियों को फायदा होता है। इसके अलावा आप मधुमेह और कोलेस्‍ट्रॉल को कंट्रोल करने के लिए बेल और तुलसी की पत्तियों को एकसाथ चबाकर भी खा सकते हैं।

बेल पत्र, तुलसी की पत्तियां और नीम की 10-10 पत्तियां रोज़ सुबह खाली पेट लें। ये डायबिटीज़ का कारगर ईलाज है।

प्रेग्‍नेंसी के दौरान बेल और इसकी पत्तियों का सेवन नहीं करना चाहिए। अगर आप गर्भवती हैं या गर्भधारण करना चाहती हैं तो डॉक्‍टर से इसके सेवन को लेकर परामर्श जरूर करें।

कई रिसर्च में भी ये बात सामने आ चुकी है कि बेल ब्‍लड यूरिया और कोलेस्‍ट्रॉल को कम करने में प्रभावी रूप से असर करता है। इसकी पत्तियों के रस में एंटीडायबिटीक गुण होते हैं। इसके अलावा ये कार्डिएक विकार में भी असर करता है।

आमतौर पर डायबिटीज़ के मरीज़ फलों के रस का सेवन नहीं कर पाते हैं लेकिन मधुमेह के रोगी बेल और इसकी पत्तियों एवं रस का सेवन कर सकते हैं। अगर आपको डायबिटीज़ नहीं भी है तो भी इससे बचने के लिए आप बेल का रस पी सकते हैं। अन्‍य कई रोगों में भी बेल फायदेमंद रहता है। स्‍वस्‍थ रहने और पोषक तत्‍वों को प्राप्‍त करने के लिए भी आप बेल का सेवन कर सकते हैं।

गर्मी के मौसम में आपको बेल के रस से बेहतर और कोई फल नहीं मिलेगा। ये शरीर को ठंडक पहुंचाने के साथ-साथ उत्तम स्‍वास्‍थ्‍य भी प्रदान करता है और इसकी सबसे खास बात तो हमने आपको बता ही दी है कि ये मधुमेह रोगियों के लिए भी फायदेमंद होता है। डायबिटीज़ के ईलाज के लिए बनने वाली दवाओं में भी बेल की पत्तियों का पीसकर प्रयोग किया जाता है। दवाओं से तो बेहतर है ना कि आप सीधा ही बेल की पत्तियों और इसके रस का सेवन कर प्राकृतिक रूप से अपनी डायबिटीज़ को कंट्रोल कर लें। रोज़ सुबह इसकी पत्तियों या रस का सेवन करने से आप खुद ही कुछ ही समय में अपने अंदर बदलाव को महसूस कर पाएंगें।

अगर आप सच में डायबिटीज़ से छुटकारा पाना चाहते हैं या इसे कंट्रोल करना चाहते हैं तो आज ही डाइट सोडा वगैरह छोड़कर बेल और इसके रस एवं पत्तियों को अपनाएं। हालांकि, डायबिटीज़ के मरीज़ों को कोई भी नई चीज़ या फल डॉक्‍टर से परामर्श के बाद ही अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए वरना आपको फायदे की जगह नुकसान भी हो सकता है।

Read source

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *