क्‍या डायबिटीज़ में वजन घटना होता है खतरनाक ?

Picture credit : healthindian.com

Picture credit : healthindian.com

अकसर डायबिटीज़ की बीमारी में वजन घटने लगता है। कई मामलों में तो ओवरवेट और बहुत ज्‍यादा मोटे लोग भी मधुमेह की वजह से दुबले हो जाते हैं।

आमतौर पर हमे लगता है कि वजन कम होना अच्‍छा और हैल्‍दी होता है। पोषणयुक्‍त और संतुलित आहार के साथ व्‍यायाम से वजन कम करने पर दिल, ब्‍लड प्रेशर और कोलेस्‍ट्रॉल लेवल पर अच्‍छा असर पड़ता है। वहीं वजन घटने पर इंसुलिन रेसिस्‍टेंस भी ठीक हो जाता है और मांसपेशियां और फैट टिश्‍यूज़ रक्‍त में इंसुलिन बनाने के लिए ज्‍यादा संवेदनशील हो जाते हैं।

किस तरह के डायबिटीज़ में घटता है वजन

इंसुलिन रेसिस्‍टेंस का कम होना समस्‍या पैदा कर सकता है क्‍योंकि टिश्‍यूज़ में ग्‍लूकोज़ को मेटाबोलाइज़ होने के लिए इंसुलिन की जरूरत होती है। अगर ये टिश्‍यूज़ इंसुलिन के प्रति अवरोध पैदा कर दें तो इस प्रक्रिया में इंसुलिन का स्‍तर सामान्‍य से बहुत अ‍धिक हो जाता है। सामान्‍य तौर पर ऐसा टाइप 2 डायबिटीज़ में होता है। इसमें इंसुलिन का स्‍तर जितना ज्‍यादा होगा उतना ही ज्‍यादा मुश्किल वजन को कम करना होगा। वहीं दूसरी ओर, मोटे लोगों में इंसुलिन के उच्‍च स्‍तर पर होने का खतरा ज्‍यादा होता है। इस वजह से इस प्रक्रिया को तोड़ पाना मुश्किल होता है।

मधुमेह में किस वजह से घटता है वजन

डायबिटीज़ की बीमारी में मरीज़ की इच्‍छा से वजन कम होना ठीक रहता है लेकिन अगर अचानक से वजन घटता है तो ये सही नहीं है। अगर ब्‍लड शुगर बहुत ज्‍यादा है तो डायबिटीज़ के मरीज़ को बार-बार मूत्र आता है और इस वजह से शरीर में डिहाइड्रेशन हो जाता है जोकि वजन घटने का कारण है। वहीं शुगर के बहुत ज्‍यादा होने पर मांसपेशियां टूटने लगती हैं जिससे अचानक से वजन कम होने लगता है। इसके अलावा डायबिटीज़ के मरीज़ों में अचानक से वजन घटने के कई और भी कारण हैं जैसे थायराएड और कैंसर।

अगर आप डायबिटीज़ की बीमारी में व्‍यायाम की मदद से वजन घटाते हैं तो इसमें कोई दिक्‍कत नहीं है। हालांकि, कुछ मामलों में अगर ब्‍लड शुगर बहुत ज्‍यादा या बहुत कम है या मरीज़ ह्रदय रोगी है तो अचानक से वचन कम होना उसके लिए खतरनाक हो सकता है। इसी वजह से कोई भी वेट लॉस प्रोग्राम डॉक्‍टर से परामर्श किए बिना नहीं होता है। अगर डायबिटीज़ या सामान्‍य व्‍यक्‍ति का अचानक से वजन घट रहा है तो इसका कारण हाई ब्‍लड शुगर या अन्‍य कोई बीमारी हो सकती है। ऐसी स्थिति में डॉक्‍टर से चैकअप जरूर करवाना चाहिए।

Picture credit : newsmax.com

Picture credit : newsmax.com

अचानक वजन घटने के अन्‍य कारण

अचानक से वजन घटने के कई कारण हो सकते हैं जैसे किसी दवा का असर या डिप्रेशन आदि। इसके अलावा ये कारण भी हो सकते हैं :

  • कैंसर
  • कोएलिएक रोग
  • डायरिया
  • डिमेंशिया
  • डायबिटीज़ मेलिटस
  • एचआईवी/एड्स
  • हाइपरकैल्सिमिया
  • हाइपरथायराएड
  • संक्रमण
  • कुपोषण
  • कीमोथेरेपी या थायराएड की दवा के कारण
  • पार्किंसन रोग
  • धूम्रपान
  • टीबी

डायबिटीज़ और अचानक से वजन घटने का संबंध

मधुमेह के मरीज़ों के शरीर में इंसुलिन नहीं बन पाता है और ऐसे में शरीर एनर्जी के लिए फैट को बर्न करने लगता है जिस कारण वजन कम होता जाता है। आमतौर पर टाइप 1 डायबिटीज़ के मरीज़ों का अचानक से वजन कम होने लगता है लेकिन ये टाइप 2 डायबिटीज़ के मरीज़ों को भी प्रभावित कर सकता है।

डॉक्‍टर को कब दिखाएं

अगर आपके नॉर्मल बॉडी वेट से 5 प्रतिशत ज्‍यादा वजन घट गया है या 6 से 12 महीनों के अंदर ही 4.5 किलो से ज्‍यादा वजन घट गया है तो आपको डॉक्‍टर से इस विषय में परामर्श करना चाहिए।

कुछ टेस्‍ट करने के बाद डॉक्‍टर ही आपको बता पाएंगें कि अचानक से वजन घटने का क्‍या कारण और साथ ही इसका ईलाज भी बताएंगें।

Picture credit : hypnosishealthinfo.com

Picture credit : hypnosishealthinfo.com

डायबिटीज़ में इस तरह घटा सकते हैं वजन

अगर आपको डायबिटीज़ है तो आपको अपने वजन पर नज़र रखनी चाहिए। अगर थोड़ा सा भी वजन बढ़ गया है तो उसका भी ध्‍यान रखें। संतुलित और स्‍वस्‍थ आहार और उचित शारीरिक व्‍यायाम से इस बीमारी को नियंत्रित किया जा सकता है।

  • शरीर में मौजूद मुलायम फैट को फ्लैब कहा जाता है। इसे घटाने के लिए आप कार्डियो और रेसिस्‍टेंस ट्रेनिंग सबसे बेहतर रहती है। हालांकि, एक्‍सरसाइज़ से पहले स्‍नैक में कुछ जरूर खा लें और इससे पहले अपना ब्‍लड शुगर लेवल चैक करें। एक्‍सरसाइज़ से पहले और बाद में ब्‍लड शुगर जरूर चैक करें। वर्कआउट के बाद प्रोटीन शेक पीने से आपको दोबारा एनर्जी मिलेगी।
  • डायबिटीज़ के ईलाज के लिए कोई भी डाइट लेने से पहले बेहतर होगा कि आप किसी न्‍यूट्रिश्‍निस्‍ट से सलाह लें। आपके खाने में कितनी कैलारी और फैट है उसका ध्‍यान रखें। वजन घटाने के लिए सबसे जरूरी है आप अपनी डाइट में प्रोटीन और फैट की मात्रा को कम कर दें क्‍योंकि इसका ब्‍लड शुगर के स्‍तर पर कोई असर नहीं पड़ेगा। आप चाहें तो अपने आहार में साबुत अनाज को शामिल कर सकते हैं।
  • कार्बोहाइड्रेट भी आपकी सेहत के लिए बहुत जरूरी है। हर बार खाने में कार्बोहाइड्रेट के सेवन से शरीर में ब्‍लड शुगर का स्‍तर नियंत्रित और संतुलित रहता है।
  • आपको पता होना चाहिए कि मधुमेह में वजन घटाने के लिए आपको क्‍या खाना चाहिए। आपके शरीर की जरूरतों को ध्‍यान में रखकर न्‍यूट्रिशनिस्‍ट आपके लिए चार्ट तैयार करेंगें। आपको उस चार्ट के अनुसार ही खाना है।

अगर आपको मधुमेह है और इसे कंट्रोल करने के लिए आप वजन घटाना चाहते हैं तो आप ऊपर बताए गए तरीकों से आसानी से अपना वजन घटा सकते हैं। हालांकि, कई मामलों में डायबिटीज़ की बीमारी में मरीजों का अपने आप ही वजन घट जाता है। कभी-कभी ऐसा होना कोई नुकसान नहीं देता लेकिन कुछ मामलों जैसे ह्रदय रोगियों के लिए ये खतरनाक हो सकता है।

डायबिटीज़ की बीमारी में वजन घटना आम बात है लेकिन अगर अब तक मधुमेह की बीमारी आपकी पकड़ में नहीं आई है और आपका वजन अचानक से लगातार घटता जा रहा है तो आपको डॉक्‍टर के पास जाने की जरूरत है। डॉक्‍टर आपको कुछ टेस्‍ट बताएंगें जिनसे ये पता चल पाएगा कि अचानक से वजन के कम होने का क्‍या कारण है। कोई भी दवा या एक्‍सरसाइज़ डॉक्‍टर के परामर्श के बिना ना करें।

Read source

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *