शरीर के इन अंगों को बंजर बना सकता है मधुमेह

effects

डायबिटीज़ को ज्‍यादा खतरनाक बीमारी इसलिए माना जाता है क्‍योंकि इससे शरीर को और भी कई तरह के नुकसान पहुंचते हैं। ब्‍लड शुगर बढ़ने के लक्षणों में चक्‍कर आने के साथ-साथ शरीर के प्रमुख अंगों पर इसका असर पड़ना भी शामिल है। कुछ मामलों में मधुमेह की वजह से क्षतिग्रस्‍त अंगों को पूरी तरह से ठीक कर पाना नामुमकिन हो जाता है। ऐसे में जीवित रहने के लिए ट्रांस्‍प्‍लांट और आर्टिफिशियल सपोर्ट सिस्‍टम का सहारा ही लेना पड़ता है।

इसलिए डायबिटीज़ के मरीज़ों को रोज़ या नियमित अपना ब्‍लड शुगर लेवल चैक करते रहना चाहिए ताकि इसके अंगों पर पड़ रहे प्रभाव को शुरुआत में ही रोका जा सके। शुरुआत में ही इनका पता चलने पर आसानी से इन्‍हें बढ़ने से रोका जा सकता है और आपको पता होना चाहिए कि डायबिटीज़ का असर शरीर के किन प्रमुख अंगों पर पड़ता है।

तो चलिए जानते हैं कि डायबिटीज़ आपके शरीर के किन प्रमुख अंगों को बर्बाद कर सकता है।

दिल पर अटैक

heart

शरीर के सबसे महत्‍वपूर्ण अंगों में से एक ह्रदय भी जिस पर डायबिटीज़ का सबसे ज्‍यादा असर पड़ता है। ब्‍लड शुगर के बढ़ने पर ह्रदय तक रक्‍त पहुंचाने वाली रक्‍त कोशिकाएं क्षतिग्रस्‍त हो जाती हैं। इस वजह से ह्रदय में रक्‍तप्रवाह कम होने लगता है और समस्‍या बढ़ जाती है। रक्‍त की अपर्याप्‍त आपूर्ति के कारण ह्रदय ज्‍यादा काम करने लगता है और इस वजह से सीने में दर्द, सांस लेने में दिक्‍कत, दिल की धड़कनों का तेज होना आदि जैसी समस्‍याएं सामने आती हैं। कभी-कभी परिस्थिति बहुत ज्‍यादा बिगड़ने पर ये कार्डियोवस्‍कुलर रोग जैसे स्‍ट्रोक या ब्‍लॉकेज आदि का रूप भी ले सकता है।

किडनी करे खराब

kideny

ब्‍लड शुगर के बढ़ने के कारण क्षतिग्रस्‍त हो चुकी रक्‍त कोशिकाएं किडनी को रक्‍त से अपशिष्‍ट पदार्थ निकालने में बाधा उत्‍पन्‍न करती हैं। कुछ मामलों में इन अपशिष्‍ट पदार्थों के जमने से किडनी फेल होने तक का खतरा रहता है। ऐसे में जीवित रहने के लिए मरीज़ के पास किडनी ट्रांस्‍प्‍लांट या डायलिसिस पर रहने के अलावा और कोई विकल्‍प नहीं रहता है। आमतौर पर किडनी फेल्‍योर के जितने भी मामले सामने आते हैं उनमें 40 से 50 प्रतिशत लोग डायबिटीज़ के मरीज़ होते हैं यानि कि ये बात बिलकुल साफ है कि अगर आप अपनी डायबिटीज़ को कंट्रोल नहीं करेंगें तो आपको मधुमेह हो सकता है। किडनी शरीर में ब्‍लड को साफ करने का काम करती है और डायबिटीज़ की वजह से ब्‍लड में शुगर का लेवल बढ़ जाता है। परिणामस्‍वरूप किडनी तक जो ब्‍लड पहुंचता है उसकी मात्रा भी बढ़ जाती है।

आंखों पर असर

eye

डायबिटीज़ कोई गंभीर नेत्र संबंधित रोग पैदा कर सकती है। इसकी वजह से पूरी तरह से आंखों की रोशनी तक जा सकती है। इसके अलावा आंखों पर ग्‍लूकोमा और कैटेरैक्‍ट का खतरा भी मंडराता रहता है। रक्‍त कोशिकाओं पर नकारात्‍मक असर पड़ने से आंखों की रोशनी कम होने या नेत्रहीन होने का खतरा रहता है। मधुमेह के मरीज़ों में इस बात का खतरा हमेशा बना रहता है इसलिए उन्‍हें हर साल अपनी आंखों की जांच करवाते रहना चाहिए। ब्‍लड शुगर के हाई होने पर या इंसुलिन का उपचार करने पर आंखों की रोशनी कम हो जाती है। कोई लक्षण नज़र नहीं आने पर भी आंखों को नुकसान हो जाता है इसलिए इसके लक्षणों के दिखने का इंतज़ार ना करें और आंखों का चेकअप करवाते रहें।

पैरों पर प्रभाव

foot

डायबिटीज़ की बीमारी की वजह से गंभीर रूप से नर्व डैमेज खासतौर पर पैरों में ऐसा हो सकता है। इस बीमारी में पैरों को नज़रअंदाज़ करना कोई गंभीर समस्‍या का रूप ले सकती है और इस वजह से मरीज़ को अपना पैर तक खोना पड़ सकता है। इस बीमारी की वजह से उनके पैर बहुत ज्‍यादा संवेदनशील हो जाते हैं और बाकी अंगों की तरह मधुमेह का असर पैरों पर भी पड़ता है। मधुमेह की बीमारी में पैरों में सनसनाहट सी महसूस हो तो तुंरत चेकअप करवाएं। किसी छोटे कट या घाव को भी नज़रअंदाज़ ना करें वरना कोई गंभीर संक्रमण फैल सकता है।

यौन अंग

sex

मधुमेह से प्रभावित अंगों में यौन अंग भी शामिल हैं। पुरुषों में स्तंभन दोष और नपुंसकता का कारण बन सकती है इसलिए नियमित चेकअप करवाते रहें।

मधुमेह पूरे शरीर को बंजर बना सकती है इसलिए जरूरी है कि आप अपना ध्‍यान रखें और नियमित चेकअप की प्रक्रिया को नज़रअंदाज़ ना करें। एक्‍सरसाइज़ और डाइट से शुगरयुक्‍त चीज़ों को बाहर कर के भी मधुमेह को कंट्रोल किया जा सकता है। इसके लिए मरीज़ को वजन कम करने की भी जरूरत है। किसी भी बीमारी को नियंत्रित करने का सबसे बेहतर तरीका है तनाव से दूर रहना। तनाव के कारण डायबिटीज़ की बीमारी और ज्‍यादा भयंकर रूप ले सकती है इसलिए आपको तनाव से दूर रहना चाहिए और जितना हो सके स्‍वस्‍थ जीवनशैली अपनाएं।

Read source

Image source

Image source 2

Image source 3

Image source 4

Image source 5

Image source 6

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Bitnami