भारत में इन बातों को ध्‍यान में रखकर स्‍वस्‍थ जीवन पा सकते हैं मधुमेह रोगी

di

image source 

मधुमेह रोगियों के लिए इस बीमारी को नियंत्रित रखने के लिए स्‍वस्‍थ आहार बहुत आवश्‍यक होता है। रक्‍त शर्करा के स्‍तर को सामान्‍य रखने के लिए क्‍या खाना चाहिए और क्‍या नहीं खाना चाहिए, इस बात की जानकारी होना बहुत जरूरी है। आज हम आपको मधुमेह पर नियंत्रण रखने के लिए कुछ टिप्‍स और सलाह दे रहे हैं।

अगर आप नियमित जीवनशैली में इन बातों का ध्‍यान रखें तो बड़ी आसानी से मधुमेह को नियंत्रित किया जा सकता है।

डाइट से कंट्रोल करें डायबिटीज़

managing-diabetes

 image source 2

मधुमेह के रोगियों को कार्बोहाइड्रेट, वसा और प्रोटीन 60:20:20 के अनुपात में लेना चाहिए। डायबिटीज़ की डाइट में फल और सब्जियां भी अहम भूमिका निभाती हैं। 

रोज़ पीएं दूध हड्डियों को पर्याप्‍त पोषण देते हैं लेकिन मधुमेह के मरीज़ों को दूध की मात्रा का ध्‍यान रखना चाहिए। हालांकि, नियमित डाइट में दो बार दूध का सेवन करने से रक्‍त शर्करा का स्‍तर सामान्‍य रहता है और ये कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन का भी बेहतर स्रोत है।

हाई फाइबरयुक्‍त सब्जियां खाएं

11 Sep 2007, Garnerville, New York, USA --- Assortment of High Fiber Foods --- Image by © Envision/Corbis

 image source 3

स्‍वस्‍थ आहार सब्जियों के बिना अधूरा है। मधुमेह रोगियों को हाई फाइबरयुक्‍त सब्जियां जैसे मटर, बींस, ब्रोकली और अन्‍य पत्तेदार सब्जियां खानी चाहिए। डायबिटीज़ डाइट में स्‍प्राउट्स को भी शामिल किया जा सकता है।

ताजा मौसमी फल

fruit

image source 4

ताजा मौसमी फलों के सेवन से भी मधुमेह को नियंत्रित रखा जा सकता है। इनमें भी फाइबर की उच्‍च मात्रा होती है। पपीता, सेब, संतरा, नाशपाती और अमरूद मधुमेह रोगियों में ब्‍लड शुगर के स्‍तर को सुरक्षित लेवल पर रखती हैं। वहीं आम, केला और अंगूर जैसे फलों में शुगर की उच्‍च मात्रा होती है जिससे ब्‍लड शुगर बढ़ जाता है। इसलिए इन फलों का सेवन कम करना चाहिए।

गुड फैट करें शामिल

fat

image source 5

ओमेगा 3 और मोनो अनसैचुरेटेड फैट से ब्‍लड शुगर लेवल सामान्‍य रहता है। कैनौला ऑयल, फ्लैक्‍स सीड ऑयल, फैटी फिश और नट्स में गुड फैट प्रचुर मात्रा में होता है जबकि इनमें कोलेस्‍ट्रॉल कम होता है और ये ट्रांस वसा मुक्त होते हैं।

धीरे-धीरे खाएं

woman with big clock

image source 6

सेहत विशेषज्ञों की मानें तो मधुमेह के मरीज़ों को थोड़े-थोड़े समय के अंतराल में खाते रहना चाहिए। हर बार कम खाना खाएं। एक दिन में 5 बार से ज्‍यादा ना खाएं। एक बार में ज्‍यादा खाने से शरीर में ब्‍लड शुगर का लेवल बढ़ जाता है। आप 4 बार खाना और इस बीच में 2 बार स्‍नैक खा सकते हैं। 

साबुत अनाज और दाल

sabut

 image source 7

मसूर, राजमा और चना दाल को मधुमेह के लिए अस्‍वास्‍थ्‍यकर माना जाता है लेकिन अगर इनका सेवन सीमित मात्रा में किया जाए तो इससे रक्‍त शर्करा सामान्‍य रहता है और ये ह्रदय धमनी रोग से भी बचाए रखता है। इसके अलावा डाइट में साबुत अनाज शामिल कर के भी मधुमेह को नियंत्रित किया जा सकता है।

सूखे मेवे

dry

image source 8

डॉक्‍टर मधुमेह रोगियों को ड्राई फ्रूट्स खाने के लिए मना करते हैं क्‍योंकि इनमें फ्रूक्‍टोज़ होता है जोकि ब्‍लड शुगर के लेवल को बढ़ा सकता है। स्‍नैक्‍स में ड्राई फ्रूट्स की जगह ताजे फल खाए जा सकते हैं। हालांकि, रोज़ सीमित मात्रा में ड्राई फ्रूट्स खाने से मधुमेह नियंत्रण में रहता है। 

क्‍या ना खाएं

cake

 image source  9

कुछ ऐसे खाद्य भी हैं जो डायबिटीज़ की बीमारी को और भी ज्‍यादा खतरनाक बना देते हैं। केक और मिठाई में प्रयोग की जाने वाली आर्टिफिशियल स्‍वीटनर से बचें। थोड़ी सी मिठाई और डेज़र्ट भी आपको बहुत नुकसान पहुंचा सकती है। इसी तरह, एल्‍कोहल से भी दूर रहें। चावल का सेवन ध्‍यान से करें।

इस तरह की मीट से दूर रहें

red

 image source 10

मधुमेह रोगियों की डाइट में वैसे तो किसी भी तरह की मीट को शामिल नहीं करना चाहिए क्‍योंकि रेड मीट में सैचुरेटेड फैट की मात्रा बहुत ज्‍यादा होती है जिससे मरीज़ों को दिक्‍कत आ सकती है। सीफूड और चिकन का सीमित मात्रा में सेवन किया जा सकता है। इसके बाद व्‍यायाम जरूर करें।

उपाय

इन सब चीज़ों के अलावा कुछ घरेलू नुस्‍खों से भी मधुमेह को नियंत्रण में रखा जा सकता है। रोज़ सुबह खाली पेट टमाटर के जूस में एक चुटकी नमक और काली मिर्च डालकर पीएं। इससे ब्‍लड शुगर का स्‍तर नियमित रहता है। इसके अलावा 3-4 बादाम खाने से भी डायबिटीज़ कंट्रोल में रहती है लेकिन रातभर भिगोने के बाद ही बादाम खाएं।

आपको बता दें कि डायबिटीज़ के मुख्‍य रूप से दो प्रकार होते हैं जिनमें टाइप 1 डायबिटीज़ और टाइप है। आपको टाइप 1 मधुमेह हो या टाइप 2, उपरोक्‍त बताए गए टिप्‍स आप अपना सकते हैं। इससे आपको कोई परेशानी नहीं होगी।

भारत में मधुमेह के मरीज़ों की संख्‍या हर एक मिनट में बढ़ रही है। इसी बात से पता लगाया जा सकता है कि ये बीमारी कितनी तेजी से आपकी और हमारी जान के लिए खतरा बन रही है।

Read Source

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *