भारत में बढ़ रही है एंटी डायबिटीक दवाओं की बिक्री, मुश्किल में मरीज़

medic

image source

भारत में एंटी डायबिटीक दवाओं की ब्रिकी काफी बढ़ गई है। इन दवाओं में इंसुलिन भी शामिल है। इसके साथ ही एक रिसर्च में ये भी सामने आया है कि भारत में डायबिटीज़ के मरीज़ों की संख्‍या में भी वृद्धि हुई है।

फोर्टिस अस्‍पताल के चेयरमैन अनूप मिश्रा ने बताया कि 2008 में इंसुलिन की बिक्री 151.2 करोड़ रुपए हुई थी जब‍कि 2016 में बढ़कर ये आंकड़ा 842 करोड़ तक पहुंच गया जोकि दोगुने से भी कई ज्‍यादा है।

ओरल ड्रग खासकर की नई दवाओं की ब्रिकी भी बढ़ गई है। 2013 में 278.5 करोड़ रुपए का आंकड़ा 2016 में 700 करोड़ तक पहुंच गया।

इन आंकड़ो से पता चलता है कि देश में पिछले कुछ सालों के अंदर मधुमेह के मरीज़ों में भारी वृद्धि हुई है। फार्मेसी कंपनियों ने भी इस बात को स्‍वीकार किया है।

वहीं दूसरी ओर रिसर्च का कहना है कि सामाजिक-आर्थिक स्तर को कम करने के लिए एंटी डायबीटिक थेरेपी की क्षमता और उपलब्धता अपर्याप्त रही है।

आंकड़ों के अनुसार महंगी दवाओं की बिक्री भी बढ़ी और ये काफी चिंताजनक है कि अधिकतर भारतीयों की इनकम का अधिकांश हिस्‍सा दवाओं पर ही खर्च हो जाता है। मिश्रा जी कहना है कि लोग अपनी कमाई का लगभग 7 प्रतिशत हिस्‍सा मधुमेह की दवाओं पर ही खर्च कर देते हैं।

विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन यानि डब्‍ल्‍यूएचओ के अनुसार 1980 में दुनियाभर में वयस्‍कों में मधुमेह की बीमारी 4.7 प्रतिश्‍त थी जोकि 2014 में बढ़कर 8.5 प्रतिशत तक पहुंच गई।

साल 2015 में आधुनिक जीवनशैली की वजह से दुनियाभर में 415 मिलियन लोग मधुमेह से पीडित थे जबकि भारत में ये संख्‍या 69.1 मिलियन थी। चीन में 109 मिलियन लोगों को मधुमेह रोग है और इसके साथ ही वो दुनिया में मधुमेह रोगियों के मामले में पहले नंबर पर आता है। उसके बाद दूसरे नंबर पर भारत का ही नाम है।

भारत सरकार को मधुमेह रोगियों की संख्‍या को कम करने के लिए तो उचित कदम उठाने ही चाहिए साथ ही इसकी दवाओं के बढ़ते दामों पर भी नियंत्रण रखना चाहिए और दवा कंपनियों के लिए सख्‍त नियम बनाने चाहिए।

यह अनुसंधान पिछले 9 सालों (दिसंबर 2008 और दिसंबर 2016 के बीच) के सभी शीर्ष बिक्री वाली दवाओं (20 ब्रांड) से बिक्री के रुझान के आंकड़ों पर आधारित था, जिसमें एंटी डायबिटीक दवाओं पर जोर दिया गया था।

भारत में मॉडर्न लाइफस्‍टाइल की वजह से कई तरह के रोग बढ़ रहे हैं। मधुमेह के साथ-साथ अन्‍य रोगों से निपटने के लिए व्‍यायाम और संतुलित आहार सर्वोत्तम उपाय है।

original link

Sale of anti-diabetic medicines shoots up in India

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *