मधुमेह से जुड़ी ये बातें जानकर हो जाएंगे हैरान

diaedf

image source

1980 से अब तक मधुमेह के रोगियों की संख्‍या काफी बढ़ चुकी है। निम्‍न और मध्‍य आय वाले देशों में मधुमेह का खतरा ज्‍यादा देखा जाता है। डायबिटीज़ के कारणों का पता लगा पाना मुश्किल होता है लेकिन मोटापे से ग्रस्‍त लोगों और अधिक वजन वाले लोगों के साथ-साथ शारीरिक व्‍यायाम ना करने वाले लोगों में मधुमेह का खतरा ज्‍यादा रहता है।

हर तरह की डायबिटीज़ की वजह से शरीर के कई हिस्‍सों में परेशानी होती है और जीवनकाल में भी कमी आती है। दुनियाभर में साल 2012 में 1.5 मिलियन लोगों की मृत्‍यु की वजह डायबिटीज़ ही थी। संतुलित आहार, नियमित शारीरिक व्‍यायाम और सामान्‍य वजन और तंबाकू से दूर रहकर मधुमेह से निपटा जा सकता है।

अप्रैल 2016 में डब्‍ल्‍यूएचओ ने एक वैश्विक रिपोर्ट प्रकाशित की थी जिसमें टाइप 2 डायबिटीज़ के कारणों को कम करने और उचित देखभाल से मधुमेह के सभी प्रकारों से लड़ने की बात कही गई थी।

दुनियाभर में 422 मिलियन लोग डायबिटीज़ से ग्रस्‍त

dia8

image source 2

पिछले 3 दशकों में मधुमेह के मरीज़ों में भारी बढ़ोत्तरी हुई है। इसके साथ ही ये बीमारी अधिक वजन वाले और मोटापा ग्रस्‍त लोगों में हुई है। निम्‍न और मध्‍य आय वाले देशों में मधुमेह का खतरा ज्‍यादा देखा गया है।

मृत्‍यु का सबसे बड़ा कारण

दुनियाभर में साल 2012 में 1.5 मिलियन लोगों की मृत्‍यु की वजह डायबिटीज़ ही थी। इसके साथ ही साल 2010 में ही 2.2 मिलियन लोगों की मृत्‍यु ब्‍लड़ ग्‍लूकोज़ के उच्‍च स्‍तर की वजह से हुई थी। इससे मरीज़ों में कार्डियोवस्‍कुलर और अन्‍य बीमारियों का खतरा बढ़ गया था। ब्‍लड ग्‍लूकोज़ का स्‍तर बढ़ने पर कार्डियोवस्‍कुलर रोग होने की संभावना बढ़ जाती है।

टाइप 1 और टाइप 2 डायबिटीज़

टाइप 1 डायबिटीज़ में इंसुलिन का उत्‍पादन कम होता है जबकि टाइप 2 में शरीर इंसुलिन का प्रयोग नहीं कर पाता है। टाइप 2 डायबिटीज़ का ईलाज फिर भी संभव है लेकिन टाइप 1 के कारणों का अब तक पता नहीं चल पाया है।

गर्भावधि डायबिटीज़

GestationalDiabetes2

image source 3

हाइपरग्‍लाइसिमिया और ब्‍लड शुगर के स्‍तर बढ़ने से गर्भावस्‍था के दौरान मधुमेह की ये बीमारी हो जाती है। गर्भावधि मधुमेह से पीडित महिलाओं में गर्भावस्‍था और प्रसव में मुश्किलें आती हैं। महिलाओं और उनके शिशु में टाइप 2 डायबिटीज़ का खतरा बढ़ जाता है।

टाइप 2 डायबिटीज़ के हैं ज्‍यादा मरीज़

दुनियाभर में टाइप 2 के मरीज़ ज्‍यादा पाए जाते हैं। चौड़ी कमर और ज्यादा बॉडी मास इंडेक्स होने पर टाइप 2 डायबिटीज का खतरा बढ जाता है। जनसंख्या के आधार पर इन दोनों के बीच के संबंध में विभिन्नता हो सकती है। पहले बच्‍चों में टाइप 2 डायबिटीज़ कम देखा जाता था लेकिन अब दुनियाभर के बच्‍चों में इसका खतरा बढ़ रहा है।

original link

10 facts on diabetes

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *