गर्भावस्‍था में डायबिटीज़ और उच्‍च रक्‍तचाप बढ़ा सकती है आपकी मुसीबत

dvf
image source 
हाल ही में हुई रिसर्च के मुताबिक गर्भावस्‍था के दौरान उच्‍च रक्‍तचाप और मधुमेह से ग्रस्‍त महिलाओं को भविष्‍य में कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इसका खतरा उन महिलाओं को कम होता है जिन्‍हें इनमें से कोई एक बीमारी हो।
कनाडा की इस रिसर्च के मुताबिक ऐसी स्थिति में भविष्‍य में होने वाली समस्‍याओं में ह्रदय रोग भी शामिल है। इस निष्‍कर्ष पर पहुंचने के लिए शोधकर्ताओं की टीम ने 64,000 कपल्‍स पर रिसर्च की।
प्रेग्‍नेंसी के दौरान डायबिटीज़ या हाई ब्‍लड प्रेशर में से कोई एक बीमारी होने पर भविष्‍य में महिलाओं में मधुमेह का खतरा 15 प्रतिशत तक बढ़ जाता है। वहीं गर्भावस्‍था के दौरान ये दोनों बीमारी होने पर महिलाओं में डायबिटीज़ का खतरा 37 गुना बढ़ जाता है।
प्रेग्‍नेंसी के दौरान डायबिटीज़ या हाई ब्‍लड प्रेशर में से कोई एक बीमारी होने पर भविष्‍य में उस महिला को हाई ब्‍लड प्रेशर की बीमारी का खतरा दोगुना रहता है लेकिन जिन महिलाओं को ये दोनों समस्‍या होती हैं उनमें इसका खतरा 6 गुना ज्‍यादा रहता है।
इस रिसर्च में सामने आए निष्‍कर्षों से डॉक्‍टर, डायबिटीज़ और उच्‍च रक्‍तचाप से ग्रस्‍त गर्भवती महिलाओं की जीवनशैली में जरूरी बदलाव कर उन्‍हें भविष्‍य में होने वाले इस खतरे से बचा सकते हैं। अगर इन बीमारियों से ग्रस्‍त महिलाएं अपनी जीवनशैली पर ध्‍यान दें तो वो गर्भावस्‍था के दौरान और उसके बाद कई तरह की बीमारियों से बच सकती हैं।
पति-पत्‍नी दोनों के लिए ये रिसर्च महत्‍वपूर्ण है क्‍योंकि यह दोनों पार्टनर्स के बीच साझेदारी को बढ़ावा देती है जिससे परिवार में स्थायी जीवनशैली में परिवर्तन हो सके।
प्रेग्‍नेंसी के दौरान महिलाओं को कई तरह के शारीरिक और मानसिक उतार-चढ़ाव से गुज़रना पड़ता है। शिशु के गर्भ में कोई हरकत करने पर भी महिलाएं परेशान और डर जाती हैं।
मधुमेह के मरीज़ों को प्रेग्‍नेंसी प्‍लान करने से पहले अपने डॉक्‍टर से संपर्क कर लेना चाहिए। गर्भावस्‍था से पहले कुछ बातों का ध्‍यान रखकर मधुमेह से ग्रस्‍त महिलाएं भी स्‍वस्‍थ शिशु को जन्‍म दे सकती हैं।
– मधुमेह से ग्रस्‍त महिलाओं को नियमित डॉक्‍टर के पास जांच के लिए जाना चाहिए।
– मधुमेह को नियंत्रित करने के लिए डॉक्‍टर से इसके बारे में सलाह लेते रहें।
– समय-समय पर अपने ब्‍लड शुगर लेवल की जांच करवाते रहें।
अगर आप खुद को प्रसव के बाद स्‍वस्‍थ रखना चाहती हैं तो गर्भावस्‍था के दौरान और गर्भधारण से पूर्व अपने डॉक्‍टर से मधुमेह और उच्‍च रक्‍तचाप की बीमारी में गर्भावस्‍था से जुड़ी सभी जरूरी जानकारी प्राप्‍त कर लें।
original link
Diabetes, High BP In Pregnancy Can Lead to Issues

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Bitnami