आपको दिमागी रूप से बीमार बना सकती है डायबिटीज़, ये सुपरफूड रहेंगें मददगार

Diabetes-Mental-Health

एक नई स्‍टडी में डायबिटीज़ और मा‍नसिक स्‍वास्‍थ्‍य विकार के बीच संबंध पाया गया है। इस रिपोर्ट में इस तथ्‍य पर गौर किया गया है कि डायबिटीज़ के मरीज़ों को उचित मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य सहयोग मिलना चाहिए। एक स्‍वास्‍थ्‍य संस्‍थान द्वारा करवाए गए इस सर्वे में खुलासा हुआ है कि पांच में से तीन डायबिटीज़ के मरीज़ों में इमोशनल और मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य विकार होते हैं जिसका संबंध उनकी बीमारी से होता है।

स्‍टडी में विशेषज्ञों की टीम ने 8500 अलग-अलग उम्र के लोगों को शामिल किया जिनकी जीवनशैली और बैकग्राउंड अलग था। इनमें से 64 प्रतिशत लोगों ने बताया कि उन्‍हें अमूमन लो और खराब मूड की दिक्‍कत रहती है। इसके अलावा 33 प्रतिशत लोगों ने कहा कि उन्‍हें भी वो काम करने का मन करता है जो उनके परिवार में अन्‍य सदस्‍य करते हैं। 30 प्रतिशत लोगों ने भी कहा कि उन्‍हें भी ये महसूस होता है कि उन पर डायबिटीज़ का पूरा कंट्रोल हो चुका है।

mental health and diabetes

इस स्‍टडी में 19 प्रतिशत प्रतिभागियों को एक प्रशिक्षित प्रोफेशनल द्वारा काउंसलिंग दी गई जबकि 32 प्रतिशत लोगों को तनाव और मानसिक विकार से निपटने के लिए सेल्‍फ हैल्‍प मटीरियल जैसे कि किताबें, वीडियोज़ और ऑनलाइन चीज़ें पढ़ने और देखने को कहा गया।

डायबिटीज़ कई बीमारियों को जन्‍म दे सकती है और इस बीमारी में शरीर के अंदर रक्‍त में शुगर की मात्रा बढ़ जाती है। डाय‍बिटीज़ को कंट्रोल करने में नियमित डाइट और लाइफस्‍टाइल अहम भूमिका निभाते हैं।

इन प्राकृतिक चीज़ों से डायबिटीज़ के मरीज़ अपने ब्‍लड शुगर लेवल को नियंत्रित रख सकते हैं :

Time For Prevention Concept

  • सुबह खाली पेट करेले का जूस पीएं। दो-तीन करेले लें और उसमें से बीजों को निकाल दें और इनका जूस निकाल लें। इसमें थोड़ा पानी मिलाएं और इसे सुबह खानी पेट पी लें। आपको ये नुस्‍खा कम से कम दो महीने तक करना है। इसके अलावा आप रोज़ अपनी डाइट में एक करेले की डिश को भी शामिल कर सकते हैं।
  • एक से डेढ़ चम्‍मच दालचीनी पाउडर को एक कप गर्म पानी में मिलाएं। रोज़ इस पानी को पीने से ब्‍लड शुगर का स्‍तर सामान्‍य रहता है। इसके अलावा एक बर्तन में 2-4 दालचीनी की डंडियों को 20 मिनट तक उबालें। जब एक कप पानी बच जाए तो गैस बंद कर दें। इसके अलावा आप गर्म बेवरेज में भी दालचीनी को डालकर पी सकते हैं।
  • रातभर के लिए दो चम्‍मच मेथीदाना पानी में भिगोकर रख दें। सुबह खाली पेट इस पानी को छानकर पीएं। कुछ महीने तक बिना रूके इस नुस्‍खे का सख्‍ती से पालन करें। इससे निश्‍चित ही ग्‍लूकोज़ लेवल सामान्‍य स्‍तर पर आएगा। इसके अलावा आप सुबह खाली पेट दूध के साथ मेथीदाने का पाउडर मिलाकर पी सकते हैं। मधुमेह की बीमारी में मेथी के लड्डू भी खा सकते हैं।
  • 2-3 आंवला लें और उसमें से बीज निकाल कर उसे ग्राइंड कर पेस्‍ट तैयार कर लें। अब इस पेस्‍ट को एक कपड़े में डालें और उसे दबाकर उसका रस निकाल लें। एक कप पानी में दो चम्‍मच आंवले का ये रस मिलाकर सुबह खाली पेट पीने से रक्‍त शर्करा का स्‍तर सामान्‍य रहता है। इसके अलावा आप करेले के जूस में भी एक चम्‍मच आंवले का रस मिलाकर पी सकते हैं। कुछ महीने तक ऐसा करने से आपको खुद ही अपने शरीर में बदलाव महसूस होगा।
  • मधुमेह की बीमारी के ईलाज में आम की पत्तियां भी फायदेमंद होती है। इससे भी रक्‍त में इंसुलिन के स्‍तर को नियंत्रित रखा जा सकता है। इसके अलावा ये ब्‍लड लिपिड प्रोफाइल को भी बेहतर करती है। रातभर के लिए पानी में 10 से 15 आम की पत्तियां भिगोकर रख दें। सुबह उठकर इस पानी को छान लें और खाली पेट इसे पीएं। इसके अलावा आप आम की पत्तियों को सुखाकर उन्‍हें पीसकर उनका पाउडर भी बना सकते हैं। रोज़ सुबह खाली पेट एक से दो चम्‍मच इस पाउडर को लें।
  • जामुन भी डायबिटीज़ के मरीज़ों के लिए बेस्‍ट सुपरफ्रूट का काम करता है। जामुन खाने से मधुमेह के मरीज़ों में इंसुलिन एक्टिविटी और सेंसिटिविटी बेहतर होती है।
  • अमरूद से शरीर में शुगर के अवशोषण को धीमा किया जा सकता है। इसे आप स्‍नैक के तौर पर खा सकते हैं।
  • हल्‍की पैंक्रियाज़ की क्रिया को नियंत्रित करती है और शरीर में इंसुलिन के लेवल को संतुलित रखती है।

अपने ब्‍लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने के लिए इन चीज़ों को हमेशा अपने हाथ या बैग में रखें ताकि जरूरत पड़ने पर बिना किसी देरी के आप इन्‍हें खा सकें और डायबिटीज़ के लक्षणों पर भी नज़र रखें।

Read source

Image source

Image source 2

Image source 3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *