टाइप 2 डायबिटीज़ से बचने के लिए एक हफ्ते में इतने अंडे जरूर खाएं

egg

प्रोटीन के साथ-साथ कई जरूर विटामिंस और अमीनो एसिड की जरूरत को पूरा करने का सबसे बेहतरीन तरीका है अंडों का सेवन करना। अंडों में कोलेस्‍ट्रॉल की मात्रा भी बहुत ज्‍यादा होती है इसलिए दिन में तीन या चार से ज्‍यादा अंडे नहीं खाने चाहिए। कई अध्‍ययनों में ये बात सामने आई है कि जो कोलेस्‍ट्रॉल हम खाते हैं उसका ब्‍लड कोलेस्‍ट्रॉल लेवल पर थोड़ा या ना के बराबर असर पड़ता है और कोशिकाओं की झिल्लियों, वसा को पचाने और हार्मोंस बनाने के लिए कोलेस्‍ट्रॉल की जरूरत होती है।

हैल्‍दी फूड के अलावा अंडे का सेवन करने से टाइप 2 डायबिटीज़ का खतरा भी कम होता है। अमेरिकन जर्नल ऑफ क्‍लीनिकल न्‍यूट्रिशन में प्रकाशित हुई एक रिपोर्ट में ये बात सामने आई है कि सप्‍ताह में 4 अंडे खाले से टाइप 2 डायबिटीज़ का खतरा कम हो सकता है।

टाइप 2 डायबिटीज़ की बीमारी में मरीज़ को रोज़ इंसुलिन का डोज़ लेने की जरूरत नहीं पड़ती है। इसमें शरीर में पर्याप्‍त मात्रा में इंसुलिन नहीं बन पाता है या फिर शरीर सही तरीके से इंसुलिन का इस्‍तेमाल नहीं कर पाती है। इसे इंसुलिन रेसिस्‍टेंस भी कहा जाता है। 2014 में हुई एक स्‍टडी के मुताबिक 90 प्रतिशत मामलों में मधुमेह का संबंध मोटापे से है।

अंडा कोलेस्‍ट्रॉल का प्रमुख स्रोत होता है और बताया जाता है कि इससे ब्‍लड ग्‍लूकोज़ का लेवल बढ़ जाता है और टाइप 2 डायबिटीज़ के खतरे में भी बढ़ोत्तरी होती है। शोधकर्ताओं की टीम ने इस बात को खारिज कर दिया है। इस अध्‍ययन में 2332 पुरुषों जिनकी उम्र 42 से 60 साल के बीच थी उन्‍हें शामिल किया गया था। इसमें 19 सालों तक का फॉलो अप लिया गया था। इनकी डाइट में अंडों के सेवन पर ध्‍यान दिया गया ओर रोज़ इनका ब्‍लड ग्‍लूकोज़ लेवल चैक किया गया। इनमें से 432 लोगों में टाइप 2 डायबिटीज़ का खतरा पाया गया और जिन लेागों ने ज्‍यादा अंडे खाए थे उनमें इस बीमारी का खतरा 38 प्रतिशत कम पाया गया।

इस स्‍टडी में प्रतिभागियों के शारीरिक व्‍यायाम, बॉडी मास इंडेकस्‍, धूम्रपान और फल और सब्जियों के सेवन पर भी ध्‍यान दिया गया। वहीं 4 से ज्‍यादा अंडे खाने वाले लोगों के शरीर में और कोई सकारात्‍मक बदलाव नहीं देखा गया।

शोधकर्ताओं ने बताया कि अंडे से डायबिटीज़ का खतरा तो कम होता ही है साथ ही इसे अपने आहार में शामिल करने से कई और भी फायदे मिलते हैं। इसका मेटाबॉलिज्‍म पर बेहतर असर पड़ता है और लो ग्रेड इंफ्लामेशन भी कम होता है।

अंडे में मौजूद पोषक तत्‍व

अंडे हाई क्‍वालिटी प्रोटीन के बेहतर स्रोत होते हैं। अंडे से मिलने वाला आधे से ज्‍यादा प्रोटीन इसके सफेद भाग में होता है और इसके साथ ही इसमें विटामिन बी2 और कम मात्रा में वसा और कोलेस्‍ट्रॉल होता है। अंडे की जर्दी के मुकाबले इसका सफेद वाला हिस्‍सा ज्‍यादा सेहतमंद होता है। सफेद हिस्‍से में सिलेनियम, विटामिन डी, बी6, बी12 और मिनरल्‍स जैसे कि जिंक, आयरन और कॉपर मौजूद होता है।

अंडे की पीली जर्दी में ज्‍यादा कैलोरी और फैट होता है। ये कोलेस्‍ट्रॉल और फैट सॉल्‍यूबल विटामिन जैसे ए, डी और के और लेसिथिन का स्रोत ह।

आज अंडे के कुछ प्रकारों में ओमेगा 3 फैटी एसिड भी होता है। अंडे को प्रोटीन का संपूर्ण स्रोत कहा जा सकता है क्‍योंकि इसमें नौ एसेंशियल अमीनो एसिड होजे हैं जोकि शरीर को स्‍वस्‍थ बनाए रखने में मदद करते हैं।

एक सामान्‍य आकार के अंडे में 76 कैलोरी, 7.5 ग्राम प्रोटीन, 5.1 ग्राम फैट और 1.4 ग्राम सैट फैट मौजूद होता है।

कितनी मात्रा में करें अंडों का सेवन

egg 3

आप सप्‍ताह में 3-7 अंडों का सेवन कर सकते हैं। एक सामान्‍य अंडे की जर्दी में 215 मिलीग्राम कोलेस्‍ट्रॉल होता है। एक दिन में आपको 300 मिलीग्राम कोलेस्‍ट्रॉल से ज्‍यादा सेवन नहीं करना चाहिए। अंडा खाने के बाद आप कोई और ऐसा फूड नहीं खा सकते हैं जिसमें कोलेस्‍ट्रॉल ज्‍यादा हो जैसे कि चीज़, रेड मीट और दूध आदि।

डायबिटीज़ के मरीज़ सप्‍ताह में 3 अंडे खा सकते हैं लेकिन अगर आप अंडे का सिर्फ सफेद भाग खाते हैं तो आप इसका ज्‍यादा मात्रा में सेवन कर सकते हैं। डायबिटीज़ के मरीज़ों को नाश्‍ते में एक उबला हुआ अंडा खाना चाहिए। इसमें मौजूद प्रोटीन से आपका पेट भरा रहेगा और इसका असर ब्‍लड शुगर पर भी नहीं पड़ेगा। वहीं अंडा खाने से वजन कम करने में भी मदद मिलती है।

Read source

Image source

Image source 2

Image source 3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *