डायबिटीज़ के मरीज़ों को लाइफ में एक बार तो जरूर पढ़नी चाहिए ये किताबें

books डायबिटीज़ के साथ जीने के लिए आपको सबसे पहले खुद को शिक्षित करना पड़ता है और किताबों के ज़रिए आप इस बीमारी को कंट्रोल करना बड़ी आसानी से सीख सकते हैं। आपको शायद मालूम नहीं होगा कि डायबिटीज़ के मरीज़ों को कभी भी कुछ सीखना छोड़ना नहीं चाहिए। आपको हमेशा अपनी आदतों और खुद से कुछ ना कुछ सीखते रहना चाहिए। जानने की कोशिश करें कि आपकी बॉडी किस तरह काम कर रही है और इसकी क्‍या जरूरते हैं।

अगर आप टाइप 1 डायबिटीज़ के शिकार हैं तो आपको रोज़ इंसुलिन डोज़ लेना पड़ता है और अपने आहार में कार्बोहाइड्रेट का खास ख्‍याल रखना पड़ता होगा। वहीं टाइप 2 डायबिटीज़ के मरीज़ों को कुछ दवाओं और कभी-कभी इंसुलिन और दवाओं का मेल लेने की जरूरत पड़ती है। लेकिन आपको बता दूं कि मधुमेह की बीमारी में इससे भी ज्‍यादा कुछ जानने की जरूरत है। जी हां, ये बीमारी बहुत विस्‍तृत है इसलिए आपको इसके बारे में सीखते रहना चाहिए।

सिर्फ डायबिटीज़ डाइट, इंसुलिन लेने और एक्‍सरसाइज़ करने और वजन घटाने से ही आप स्‍वस्‍थ नहीं हो जाएंगें। अगर आपको डायबिटीज़ की बीमारी है तो आपको ये भी पता ही होगा कि इसके साथ जीना कितना मुश्किल है।

ऐसी कुछ बेहतरीन किताबे हैं जिनसे आप मधुमेह को और भी ज्‍यादा बेहतर तरीके से समझ सकते हैं और इस बीमारी के साथ भी स्‍वस्‍थ जीवन जी सकते हैं। तो चलिए जानते हैं उन किताबों के बारे में जो आपको डायबिटीज़ का ज्ञान दे सकती हैं।

थिंक लाइक अ पैंक्रियाज़

Think-Like-a-Pancreas-Report-346x199

जैसे ही किसी को अपने डायबिटीक होने के बारे में पता चले तो उसके हाथ में ये किताब थमा देनी चाहिए। ये उन लोगों के लिए है जो इंसुलिन लेते हैं साथ ही ये ब्‍लड शुगर और इंसुलिन की जरूरतों के साथ डायबिटीक मरीज़ों को जीना सिखाती है। इस किताब के ज़रिए आपको अपने और इस बीमारी के बारे में बहुत कुछ जानने का मौका मिलता है। सुबह के कुछ घंटों में ब्‍लड शुगर क्‍यों बढ़ता है, स्‍ट्रेस और सेक्‍स हार्मोन का ब्‍लड शुगर लेवल पर क्‍या असर पड़ता है और किस तरह आप खुद इंसुलिन डोज़ ले सकते हैं, ये सब बातें आप इस किताब से जान सकते हैं।

द फर्स्‍ट ईयर : टाइप 2 डायबिटीज़

type 2

टाइप 2 डायबिटीज़ के मरीज़ों के लिए ये किताब बहुत खास है। इस किताब के लेखक ग्रेचन बैकर खुद टाइप 2 डा‍यबिटीज़ के मरीज़ हैं और उन्‍होंने कई डॉक्‍टरों की मदद से इस बीमारी का गहन अध्‍ययन कर इस किताब को लिखा है। इस किताब की शुरुआत एक बहुत ही महत्‍वपूर्ण संदेश से होती है : ये आपकी गलती नहीं है लेकिन ज्ञान में शक्‍ति है। इस किताब में बताया गया है कि टाइप 2 डायबिटीज़ में ब्‍लड शुगर का टेस्‍ट और इसे नियंत्रित रखना क्‍यों जरूरी होता है। डायबिटीज़ की सबसे बेहतरीन डाइट कैसी होनी चाहिए और अपने परिवार और बॉस को इसके बारे में कैसे बताएं। इसके अलावा मधुमेह से जुड़ी दिक्‍कतें और खर्च आदि का भी इसमें विवरण किया गया है। इसके साथ ही इसकी कई तरह की ट्रीटमेंट्स के बारे में भी बताया गया है।

शुगर सर्फिंग : आधुनिक दुनिया में टाइप 1 डायबिटीज़ को कैसे नियंत्रित करें

sugar surfing

ये किताब उन लोगों ने मिलकर लिखी है जो डायबिटीज़ की बीमारी से ग्रस्‍त हैं। टाइप 1 डायबिटीज़ को मैनेज करने के लिए ये किताब सबसे बेहतर है। इस किताब में लेखक ने अपने निजी अनुभवों को भी साझा किया है। आज की आधुनिक दुनिया में इंसुलिन डोज़ और ब्‍लड शुगर को कैसे मैनेज करना है, ये सब आप इस किताब से सीख सकते हैं। इस बुक को आज की आधुनिक तकनीकी दुनिया को ध्‍यान में रखकर डिजाइन किया गया है।

द एंड ऑफ ओवरईटिंग

book

फूड एंड ड्रग के पूर्व कमिश्‍पर डॉ. केसलर ने इस किताब को लिखा है। इस किताब में लोगों के जंक फूड और ओवरईटिंग के बारे में बताया गया है। साथ ही ये भी खुलासा हुआ है कि फूड इंडस्‍ट्री की ट्रिक्‍स की वजह से हम जंक खाने और ओवर ईटिंग को मजबूर हो गए हैं। खाने को लेकर आपके विचारों और पसंद पर इस किताब का गहरा असर पड़ेगा। आपको बता दें कि डायबिटीज़ में ओवरई‍टिंग से बचना चाहिए एवं मोटापा मधुमेह का सबसे बड़ा कारण है इसलिए इस किताब में आपको ओवरईटिंग का कारण और निवारण दोनों ही मिल सकते हैं।

अगर आपको किताबे पढ़ने का शौक है और डायबिटीज़ से भी ग्रस्‍त हैं तो आपके लिए इन किताबों से अच्‍छा साथी और कौन हो सकता है। अपने हैल्‍दी रूटीन में बुक रीडिंग को भी शामिल करें।

Read source

Image source

Image source 2

Image source 3

Image source 4

Image source 5

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *