महिलाओं में डायबिटीज़ होने से पहले मिलते हैं ये संकेत

diab

image source

आज के समय में मधुमेह एक आम बीमारी बन गई है। यह एक एंडोक्राइन विकार है जोकि तब बनता है जब शरीर में लंबे समय तक इंसुलिन का उत्‍पादन नहीं हो पाता है। डायबिटीज़ में शरीर में इंसुलिन बनने में दिक्‍कत आती है।

इस अवस्‍था में रक्‍त कोशिकाओं में ग्‍लूकोज़ अधिक बनने लगता है। आपने अब तक मधुमेह के कई प्रकारों जैसे टाइप 1 डायबिटीज़, टाइप 2 और गर्भावधि डायबिटीज़ के बारे में सुना होगा।

सबसे पहलें जानें क्‍या है मधुमेह

मधुमेह को साइलेंट किलर भी कहा जाता है। य‍ह मुख्‍यत: मेटाबॉलिज्‍म में विकार के कारण होती है। जब हम भोजन करते हैं तो इससे हमारे शरीर में अग्‍नाश्‍य अपने आप पर्याप्‍त मात्रा में इंसुलिन बनाने लगता है। इंसुलिन ग्‍लूकोज़ को कोशिकाओं में लेकर जाता है। मधुमेह की बीमारी में या तो इंसुलिन बन नहीं पाता है या बहुत कम मात्रा में बनता है। वर्तमान समय में भारत की कुल आबादी 1000 मिलियन से भी ज्‍यादा हो चुकी है और आबादी बढ़ने के साथ-साथ मधुमेह की समस्‍या भी बढ़ती जा रही है।

diabetes-2

image source 2

महिलाओं में मधुमेह की बीमारी में कुछ अलग तरह के लक्षण सामने आते हैं। जिस तरह के लक्षण मधुमेह की बीमारी में पुरुषों में दिखाई देते हैं, महिलाओं में उससे कुछ अलग लक्षण सामने आते हैं।

मधुमेह की बीमारी में महिलाओं में जो लक्षण सामने आते हैं उनमें वजाईना में यीस्‍ट इंफेक्‍शन और मूत्र मार्ग में संक्रमण शामिल है। डायबिटीज़ के कुछ सामान्‍य लक्षण इस प्रकार हैं -:

  • मुंह में सूखापन और प्‍यास ज्‍यादा लगना
  • रात में बार-बार मूत्र आना
  • भूख बढ़ जाना
  • आंखों में कमज़ोरी
  • शुष्‍क त्‍वचा और खुजली की समस्‍या
  • त्‍वचा का रंग काला पड़ना
  • वजन में कमी आना
  • घाव का देरी से भरना या जल्‍दी-जल्‍दी संक्रमण होना
  • कमज़ोर या थकान महसूस करना
  • हाथ और पैर में सनसनाहट महसूस होना

इन लक्षणों के अलावा महिलाओं को मधुमेह की बीमारी में कुछ इस तरह की समस्‍याओं से भी रूबरू होना पड़ता है :-

bp

image source 3

  • मूत्र मार्ग में संक्रमण
  • त्‍वचा संक्रमण
  • वजाईना में इंफेक्‍शन
  • संभोग के दौरान दर्द या असहज महसूस होना
  • ऑर्गेज्‍म पाने में असफल रहना
  • मनोवैज्ञानिक लक्षण (जैसे चिड़चिड़ापन, बहुत ज्‍यादा आलस आना, व्‍याकुल रहना)

जिन महिलाओं को गर्भावधि डायबिटीज़ होती है उनमें उपरोक्‍त बताए गए लक्षण नहीं दिखाई देते हैं। गर्भावधि डायबिटीज़ में ब्‍लड शुगर टेस्‍ट के ज़रिए इसका पता लगाया जा सकता है। इस बीमारी में महिलाओं को फाइबरयुक्‍त चीज़ों का सेवन करना चाहिए।

पिछले कुछ सालों में डायबिटीज़ से ग्रसित लोगों की संख्‍या में भारी इज़ाफा हुआ है और इससे भी ज्‍यादा वृद्धि इस बीमारी से होने वाली मृत्‍यु में हुआ है। महिलाओं में अकसर ये बीमारी 40 की उम्र के बाद होती है लेकिन कई बार ये पहले भी हो सकती है। ये बीमारी बस आपकी जीवनशैली पर निर्भर करती है।

इस बीमारी से बचने के लिए आपको अपनी जीवनशैली में बदलाव करना पड़ेगा। नियमित रूप से व्‍यायाम करें और अपने वजन पर नियंत्रण रखें। अगर 40 की उम्र के बाद महिलाओं को अपने शरीर में इस तरह के लक्षण दिखाई दे रहे हैं तो उन्‍हें जांच जरूर करवानी चाहिए।

life

योनि में संक्रमण

अगर आपको बहुत जल्‍दी-जल्‍दी योनि में संक्रमण की शिकायत रहती है तो आपको डायबिटीज़ हो सकती है। 40 की उम्र के बाद डायबिटीज़ में योनि में संक्रमण होना आम बात है।

यौन रोग

जैसा कि हमने आपको पहले भी बताया कि डायबिटीज़ में महिलाओं को संभोग के दौरान दर्द या खून आने की शिकायत रहती है। महिलाओं को मधुमेह होने पर सेक्‍स में दिक्‍कत होने लगती है।

पीसीओडी

इस अवस्‍था में ओवरी में सिस्‍ट बनने लगते हैं लेकिन अगर इस विकार का ईलाज ना करवाए जाए तो ये बांझपन और कैंसर का रूप ले सकती है। पीसीओडी की वजह से मधुमेह होने का खतरा कई गुना बढ़ जाता है।

मूत्र संक्रमण

योनि में संक्रमण के साथ आपको मूत्राशय में भी संक्रमण की समस्‍या रहती है तो भी डॉक्‍टर से परामर्श करके जांच करवाएं।

मूड में बदलाव आना

महिलाओं के मूड में तो सामान्‍य रूप से भी बदलाव आते रहते हैं लेकिन मधुमेह की वजह से उन्‍हें मूड स्विंग की समस्‍या ज्‍यादा रहती है। अगर आपको समझ नहीं आ रहा है कि बार-बार आपका मूड क्‍यों बदल जाता है तो इसका कारण डायबिटीज़ हो सकता है।

डायबिटीज़ में महिलाओं को अपना खास ध्‍यान रखना चाहिए लेकिन इससे भी ज्‍यादा बेहतर होगा कि आप पहले से ही इससे सुरक्षित रहने की कोशिश करें। मधुमेह की बीमारी बेहद मुश्किलों से भरी होती है। इसमें मरीज़ ना तो अपनी पसंद को कुछ खा सकता है और ना ही फास्‍टफूड और फलों का रस आदि पी सकता है। हालांकि, कुछ बातों का ध्‍यान रखा जाए तो मधुमेह रोगी भी स्‍वस्‍थ जीवन जी सकता है।

Read Source

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *