खाने के बाद मधुमेह रोगियों को क्‍यों आने लगता है पसीना

1

image source 

मुधमेह के मरीज़ों को अकसर खाना खाने के बाद पसीना आने लगता है। मुधमेह का ये विकार नेफ्रोपैथी और डायसोटोनोमिया से जुड़ा है। नसों को क्षति पहुंचने पर डायबिटीज़ के मरीज़ों को खाना खाने के बाद पसीना आने लगता है। अगर आप टाइप 2 डायबिटीज़ के मरीज़ हैं तो आपको खाना चबाने के दौरान शरीर पर पसीना आने की शिकायत हो सकती है। ऐसे में गर्दन और सीने के आसपास वाले हिस्‍सों पर ज्‍यादा पसीना आता है।

खाने के दौरान चेहरे पर पसीना आना

ऐसा देखा गया है कि मधुमेह रोगियों में सबसे पहले ऑटोनोमिक न्‍यूरोपैथी की समस्‍या आती है। खाने की किसी भी चीज़ का स्‍वाद लेने पर पसीना आने को गस्‍टेट्री स्‍वैटिंग कहा जाता है। गस्‍टेट्री का मतलब होता है किसी भी चीज़ का स्‍वाद और गस्‍टेट्री स्‍वैटिंग का मतलब है कि किसी भी चीज़ का स्‍वाद लेने पर पसीना आना।

कई खाद्यों द्वारा उत्‍पादित गस्‍टेट्री स्‍वैटिंग गंभीर रूप भी ले सकती है। खाने की चीज़ों में सबसे अत्‍यधिक पसीना चीज़ से आता है। डायबिटीज़ में जब आप कोई इस तरह का पदार्थ खाते हैं तो आपके सिर, गर्दन, छाती और चेहरे पर पसीना आने लगता है। पसीना आने के कारण का तो अब तक पता नहीं चल पाया है लेकिन अध्‍ययनों में यह बात सामने आई है कि इसका संबंध लंबे समय तक ब्‍लड ग्‍लूकोज़ के हाई रहने से है। सेहत विशेषज्ञों की मानें तो दवाओं और टॉपिकल क्रीम की सहायता से गस्‍टेट्री स्‍वैटिंग की समस्‍या से निजात पाई जा सकती है।

डायबिटीज़ में खाने की इन चीज़ों से आता है पसीना

jui

image source 2

अमेरिकन डायबिटीज़ एसोसिएशन के अनुसार चीज़ और चॉकलेट खाने से मधुमेह रोगियों को सबसे ज्‍यादा पसीना आता है। वहीं मसालेदार अचार, शराब, विनेगर, ताजे फल और फलों के रस और नमकीन चीज़ें मधुमेह में पसीना आने का कारण बनती हैं।

अंतर्राष्‍ट्रीय हाइपरहिड्रोसिस सोसायटी का कहना है कि गर्म मसालों के कारण डायबिटीज़ के मरीज़ों को खाना खाने के बाद अत्‍यधिक पसीना आ सकता है इसलिए इन्‍हें अपने आहार में गर्म मसालों का सेवन कम कर देना चाहिए। किसी भी भोज्‍य पदार्थ को ज्‍यादा चबाने की वह से भी मधुमेह रोगियों के चेहरे, सिर और गर्दन पर पसीना आने लगता है।

अंतर्राष्‍ट्रीय हाइपरहिड्रोसिस सोसायटी की एक रिपोर्ट के अनुसार गस्‍टेट्री स्‍वैटिंग में कैफीनयुक्‍त पेय पदार्थ, कार्बोनेटेड ड्रिंक्‍स का सेवन नहीं करना चाहिए क्‍योंकि इनसे अत्‍यधिक पसीना आने लगता है। इसकी जगह पर डायबिटीज़ के मरीज़ों को सादा पानी, प्राकृतिक फल-सब्जियां और हर्बल चाय आदि पीनी चाहिए जिससे उनके शरीर में नमी बनी रहे और अत्‍यधिक पसीना आने की समस्‍या को भी नियंत्रित किया जा सके। अगर आपका बच्‍चा टाइप 1 डायबिटीज़ का शिकार है तो उसे ऐसे ड्रिंक्‍स से दूर रखें।

शोधकर्ता मधुमेह में खाने के बाद पसीना आने की समस्‍या के कारण को जानने के लिए अभी भी रिसर्च कर रहे हैं। शोधकर्ताओं की मानें तो ब्‍लड ग्‍लूकोज़ को सामान्‍य स्‍तर पर रखने और पसीना पैदा करने वाले खाद्यों को अपने आहार में शामिल ना करने से इस समस्‍या से निपटा जा सकता है। आपको पता होना चाहिए कि आपके शरीर के लिए कौन-सा मसालेदार खाद्य हानिकारक है। डायबिटीज़ के मरीज़ों को फूड डायरी बनानी चाहिए।

swe

image source 3

अगर आप कहीं बाहर हैं या बीमार हैं तो आपको खासतौर पर ऐसी चीज़़ों का सेवन नहीं करना चाहिए जिनसे आपके शरीर पर पसीना आए। वरना गलत समय में ऐसी कोई चीज़ खाने से आपको पब्लिकली शर्मिंदा होना पड़ सकता है। खाने में कटौती करने या एक समय खाना ना खाने से इसका बुरा असर आपके ब्‍लड शुगर के स्‍तर पर पड़ सकता है। इसलिए सेहत विशेषज्ञ से सलाह लें कि आपको अपनी डाइट में किन चीज़ों को शामिल करना चाहिए। आप फाइबरयुक्‍त खाद्यों का सेवन कर सकते हैं।

सभी मसालेदार चीज़ें और कैफीनयुक्‍त पेय पदार्थ गस्‍टेट्री स्‍वैटिंग पैदा नहीं करती हैं। इसका कारण सूक्ष्म घटक हो सकता है। गस्‍टेट्री स्‍वैटिंग में किसी भी खाने की चीज़ का असर स्‍वैटिंग लेवल पर पड़ता है इसलिए ऐसी चीज़ों को छोड़ दें और देखें कि इसका क्‍या असर पड़ता है।

दोस्‍तों, ये बात तो आप भी जानते हैं कि डायबिटीज़ में अपनी डाइट का ध्‍यान रखना कोई आसान बात नहीं है। इसके नियम इतने ज्‍यादा सख्‍त होते हैं उन्‍हें फॉलो करते-करते मरीज़ डिप्रेशन में ही चला जाता है। अगर आपको मधुमेह की बीमारी में अपने ब्‍लड शुगर के लेवल को लेकर चिंता रहती है या इस वजह से आप तनाव रहते हैं तो आपको नियमित योग और व्‍यायाम करना चाहिए।

मधुमेह रोगियों को अपने खाने में नारियल तेल का प्रयोग करना चाहिए, इससे पसीना भी नहीं आएगा। ज्‍यादा घबराने की जरूरत नहीं है क्‍योंकि कुछ बातों का ध्‍यान रखकर मधुमेह रोगी भी स्‍वस्‍थ जीवन जी सकते हैं। गर्भावधि डायबिटीज़ में महिलाओं को गस्‍टेट्री स्‍वैटिंग की समस्‍या से बचना चाहिए। ये आपके और आपके शिशु दोनों के लिए ही हानिकारक हो सकती है।

Read Source

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *